दो वर्षों तक नकली डीएसपी बनकर की ड्यूटी और पुलिस अफसर इससे रहे अनजान और झांसा देकर सब इंस्‍पेक्‍टर से की शादी

दो साल नकली DSP बन की ड्यूटी, सब इंस्पेक्टर पत्‍नी को देता रहा झांसा, जानें- कैसे खुला राज

रूपनगर(vin) पंजाब पुलिस में एक व्‍यक्ति नकली डीएसपी बनकर दो वर्षों तक ड्यूटी देता रहा और पुलिस अफसरा इससे अनजान रहे। वह डीएसपी की वर्दी पहनकर करीब दो वर्षों तक पुलिस नाकों और थानों में घूमता व चेकिंग करता रहा। इतना ही नहीं, उसने झांसा देकर एक महिला सब इंस्‍पेक्‍टर से शादी भी कर ली। कुछ समय बाद पत्‍नी को शक हुआ तो उसका राज खुला। रुपनगर पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया है।
पूरे मामले में ताजुब्‍ब की बात है कि दो वर्षों तक किसी पुलिस अधिकारी या कर्मचारी ने उसके बारे में बारीकी से जांच नहीं की। यह व्‍यक्ति जालंधर देहाती इलाके में सक्रिय रहा। वह अपना नाम विक्रमजीत सिंह मान बताता था, जबकि उसकी असली पहचान मोहित अरोड़ा है। वह अमृतसर का रहने वाला है। अब आरोपित रूपनगर जेल में बंद है। आरोपित के खिलाफ थाना सिटी रूपनगर में केस दर्ज किया गया है।
सबसे अहम बात ये है कि ये नकली डीएसपी असली गनमैन लेकर विभिन्न नाकों और थानों में भी घूमता रहा। उसका दिल एक नाके के दौरान एक महिला सब इंस्पेक्टर पर आ गया। उसने शादी करने के लिए सब इंस्पेक्टर को भी खुद को डीएसपी (प्रोवीजन) बताया। सब इंस्पेक्टर, जोकि डेंस्टिस्ट भी है, उसके जाल में फंस गई। दोनों ने पिछले साल जुलाई में शादी कर ली।
सब इंस्पेक्टर को भी तीन महीने बाद उस पर शक हुआ। उसने एक दिन पत्नी से कहा कि वह सस्पेंड हो गया है। इस पर पत्नी ने कहा कि इस बारे पुलिस अधिकारियों के पास गुजारिश कर लेते हैं, लेकिन वह बहाने बनाता रहा। इसके बाद पूरे मामले की जानकारी पुलिस अफसराें तक पहुंची तो जांच शुरू हुई। रूपनगर के एसएसपी स्वपन शर्मा ने कहा कि मोहित अरोड़ा को जाली डीएसपी बनकर घूमने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। जांच के बाद पूरी रिपोर्ट डीजीपी पंजाब को भेजी जाएगी।
पुलिस जांच में सामने आया है कि मोहित अरोड़ा बीए फर्स्‍ट ईयर तक पढ़ा है। उसने किसी व्यक्ति के विदेश जाने की फाइल लगाने के एवज 12 लाख रुपये लिए थे। इस पैसेसे वह खुद को हाईप्रोफाइल बताकर सभी की आंखों में धूल झोंकता रहा। मोहित अरोड़ा के पिता लापता हैं और मां और बहन ने उससे नाता तोड़ा हुआ है। यह नकली डीएसपी  ज्यादातर समय फुल ड्रेस में नहीं रहता था। वह कभी सिविल ड्रेस के साथ पगड़ी बांध लेता था तो कभी पेंट पुलिस वर्दी वाली पहन लेता था। सबसे अहम बात ये है कि पंजाब पुलिस की वर्दी के लिए आपको कोई मशक्कत की जरूरत नहीं होती। कहीं भी वर्दी सिलाई जा सकती है। बैज और स्टार तक उपलब्ध हो जाते हैं।

Share This:-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *