बिक्लांगों का मजाक उड़ा रही है सरकार-रेलवे ग्रुप डी दिब्यांग कैंडिडेट्स

प्लीज हेल्प प्लीज हेल्प की गुहार लगा रहे हजारो विकलांग कैंडिडेट्स सरकार से मदद मांग रहे है क्योकि वह विकलांग है उन सभी कैंडिडेट्स का कहना है की सरकार….SSC Gd,ASM,स्टेट पुलिस आदि हजारो पोस्ट में लाखो पद आते हैं लेकिन बिकलांग उसमे भर ही नहीं सकते…..अब बिक्लांगों की नजर रेलवे पर रहता है लेकिन रेलवे ग्रुप डी के 62000 पद में मात्र 600 बिक्लांगों का बहाली ही दिया जिससे बिक्लांगों का कट ऑफ जनरल से हाई गया और हजारो बिकलांग 65,68,70 नम्बर अंक लाकर बेरोजगार रह गएँ …..अब गरीब बिकलांग किस विभाग में जाए …..समाज में बिक्लांगों को हिन् दृष्टि से देखा जाता है ….अधिकतर बिक्लांगों का शादी विवाह नहीं होता और परिवार भी हिन् दृष्टि से देखते हैं …..LD में 80% बिकलांग आते हैं फिर भी मात्र 1% आरक्षण …..,बिक्लांगों को 10% आरक्षण और 3000 पेंशन मिले ,,,…..रेलवे के इस 62000 पोस्ट में भी 10% मिले …..मोदी जी ने बिक्लांगों का नाम बदलकर दिव्यांग कर दिया इससे क्या लाभ हुआ …..दिल्ली में 2500 पेंशन मिलता है लेकिन हर राज्य में 400 मात्र …..रेलवे ने बिक्लांगों का मजाक उड़ाया है ….इसलिए आंदोलन करेंगे और 10% की मांग करेंगे


आख़िरकार ये विकलांग किसकी चौखट खटखटाये इस और भी सरकार को ध्यान आकर्षित करना चाहिए क्योकि बड़ी मुसीबतो के साथ विकलांग लोग इस मुकाम पर पहुंच पाए है कृपया इस PWD की और सरकार ध्यान दे और उन्हें निराश न करे जिससे विकलांगो का जीवनयापन सही ढंग से हो सके

पी डब्लू डी कण्डीडेट्स का कहना है की सरकार (रेलवे ) उनके साथ मजाक कर रही है और कोई ध्यान नहीं दे रही है आखिरकार कौन देगा इन अपाहिज लोगो का साथ ? आखिरकार कौन खड़ा होगा इन बेसहारा व् मजबूर लोगो के साथ बैसाखी बनकर ? आखिरकार कौन न्याय दिलाएगा इन दिब्यांग लोगो को ? कृपया न्याय करे , कृपया न्याय दिलाये जैसे शब्दों के बीच हजारो दिब्यांग मदद मांग रहे है सरकार से गुजारिस है की फरिस्ता बनकर इनकी मदद अवश्य करे जिससे ये दिब्यांग होकर भी ख़ुशी हासिल कर सके इस मदद में आगे आये मदद की गुजारिस में राजस्थान, बिहार, यूपी से सुमेन्द्र कुमार , कृष्णा कुमार ,संदीप , निहाल सिंह ,रौशनी शाहू जैसे हजारो लोग है !

Share This:-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *