ब्लॉक अभिभावक मंच राही की बैठक कॉल कांफ्रेंस के माध्यम से संपन्न जिसमें मंच के 10 सदस्य एवं लोक मित्र से 2 सदस्य रहे शामिल

आज दिनांक 29अप्रैल 2020 को ब्लॉक अभिभावक मंच राही की बैठक कॉल कांफ्रेंस के माध्यम से की गई | जिसमें मंच के 10 सदस्य एवं लोक मित्र से 2 सदस्य शामिल रहे हैं । बैठक की शुरुआत ब्लॉक अभिभावक मंच के सचिव विनय कुमार जी द्वारा सभी का स्वागत करते हुए किया गया| बैठक की शुरुआत में ही सचिव ने बातचीत के बिन्दु को शेयर किया जो इस प्रकार है
कोरोना महामारी से बचाव के तरीकों का प्रचार-प्रसार कितना हुआ और आगे करने की जरूरत है|
सरकार द्वारा मिलने वाली सुविधाएं सभी पात्रों को मिल रही है कि नहीं इसको समझना और पात्र व्यक्तियों को दिलवाने का प्रयास करने पर विचार करना
बच्चों को घरों पर पढ़ाई का माहौल मिले इसके लिए पुस्तकालय की किताबो का उपयोग माता-पिता द्वारा बच्चों से मौखिक सवाल जवाब करना कहानी सुनाना आदि मुद्दों पर हम लोग आज चर्चा करके इसकी प्लानिंग और करने के तरीकों पर सहमति बनाएंगे |
सरकार से बच्चों के हक के लिए कौन सी मांगे की जा सकती हैं इस पर भी राय विचार किया जाएगा|
कोरोना महामारी से बचाव के तरीकों को सभी सदस्यों ने एक-एक करके बताया और कहा कि हम सभी इन बातों का ध्यान रखते हैं साथ ही अपने आसपास के सभी लोगों एवं बच्चों को प्रेरित करते हैं कि वह कोरोना के बचाव के तरीकों को अपने व्यवहार में लाएं| इसके बाद बातचीत हुई कि सरकार द्वारा मिलने वाली सुविधाएं अधिकतर लोगों को मिल पा रही हैं मिथलेश ने बताया कि हमारे यहां कुछ लोगों के राशन कार्ड ना होने की वजह से उनको राशन नहीं मिला इस पर राम बहादुर ने कहा कि राही ब्लाक के इस तरह के परिवारों की सूची हमको उपलब्ध करा दें तो हम सांसद के द्वारा दी जा रही सुविधाओं को उन तक पहुंचा देंगे इस पर सभी ने रामबहादुर को धन्यवाद दिया| इसी क्रम में मिथलेश में बताया कि वह अपने गांव के आस-पास के बच्चों के साथ पढ़ने लिखने का माहौल बना रहे हैं तथा लोगों को माहौल बनाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं इस बात पर मैंकू लाल ने कहा कि इस समय जरूरत है कि सभी बच्चों को सरकार द्वारा नई किताबें उपलब्ध करा दी जाएं जिससे अभिभावक बच्चों को उन किताबों के माध्यम से मदद कर सकें। सहजकर्ता द्वारा इस बात पर लोगों को और भी विचार करने को कहा कि सरकार द्वारा जब तक किताबें नहीं मिल रही है तब तक हम लोग क्या करें और कैसे करें जिससे कि बच्चों की पढ़ाई का नुकसान ना हो इस पर सभी ने विचार किया कि अपने आसपास के 20 20 परिवारों के बच्चों को पढ़ने लिखने का माहौल बनाएंगे जिसमें वॉलिंटियर और एसएमसी की मदद लेंगे संस्था कार्यकर्ता द्वारा कहां गया कि एसएससी वॉलिंटियर के नंबर हमें उपलब्ध करा देंगे तो हम उनकी मदद कर देंगे कि वह बच्चों के साथ क्या काम और कैसे करें इस बात पर सभी ने सहमति जताते हुए कहा कि हम लोग प्रयास करेंगे और बच्चों को नई किताबें मिले इसके लिए सरकार से मांग करेंगे इसी क्रम में बातचीत हुई थी हम सभी अपने-अपने स्कूलों में शिक्षक से बातचीत करके बच्चों के लिए पुस्तकालय की किताबें भी निकलवाये साथ ही कॉल कांफ्रेंस के माध्यम से समिति की बैठक करेंगे आपस में बच्चों के पढ़ने सीखने के माहौल और तरीकों पर बातचीत करेंगे मंच के सचिव ने विनय कहां की किसी भी साथी को तकनीकी सलाह वा अन्य किसी तरह के जरूरत हो तो वह हमसे बात कर ले हम उनकी पूरी मदद करेंगे| अभिभावक मंच के सलाहकार नागेंद्र जी ने सुझाव दिया कि इन सब कामों के साथ ही अभिभावक मंच की बैठक मे खंड शिक्षा अधिकारी को जोड़ा जाए और अभिभावक मंच के प्रयासों की शेयरिग की जाए जिससे कि विभाग को भी पता चले कि बच्चों की पढ़ने सीखने के प्रति अभिभावक मंच भी चिंतित है और प्रयास कर रहा है| 15 दिन पर मंच की बैठक करना सुनिश्चित हुआ। सरकार से पैरवी करने के हेतु पत्र बनाना एवं उसको ग्रुप पर भेज कर सभी की सहमति लेना तथा ई-मेल से शिक्षा निदेशक को एवं मुख्यमंत्री को पत्र भेजना तय हुआ | बैठक के अंत में मंच के सदस्य मिथिलेश कुमार विनय कुमार रामबहादुर एवं नागेंद्र ने मिलकर बैठक में हुई बातों का दौरान किया तथा बैठक का समर्थन किया आज की बैठक में विनय कुमार नागेंद्र रामबहादुर मिथलेश फूलमती हरिशंकर मैकू लाल नाथूराम तथा लोकमित्र से संजय व मोहन शामिल रहे हैं।

Share This:-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *