उदयपुर कन्हैयालाल मर्डर केस के मुद्दे पर कांग्रेस के दो नेताओ के बीच आरोप प्रत्यारोप से छिड़ी जंग

उदयपुर में कन्हैयालाल के तालिबानी मर्डर के बाद देश-प्रदेश की सियासत बहुत ज्यादा गर्माई हुई है। इस मुद्दे पर कांग्रेस के दो नेता कांग्रेस कम्युनिकेशन सेल के प्रभारी महासचिव जयराम रमेश और कांग्रेस नेता प्रमोद कृष्णम के बीच ट्वीटर पर आरोप-प्रत्यारोप के विवाद की शुरुआत हो चुकी है यह विवाद प्रमोद कृष्णम के राजस्थान सरकार पर हमला करने से हुई उन्होंने उदयपुर मर्डर को लेकर राजस्थान सरकार पर हमला बोला तो जयराम रमेश ने उनको लक्ष्मण रेखा नहीं लांघने की नसीहत दे डाली !
प्रमोद कृष्णम ने गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए लिखा- धमकी मिलने के बावजूद कन्हैया को सुरक्षा उपलब्ध क्यों नहीं कराई गई? कातिलों के साथ-साथ पुलिस प्रशासन भी बराबर का दोषी है। SSP DIG के खिलाफ अभी तक कार्यवाही क्यों नहीं की गई? क्या राजस्थान में सरकार का इकबाल खत्म हो गया है?
जयराम रमेश ने जवाबी ट्वीट किया- दूसरी बार लक्ष्मण रेखा पार करने से पहले एक बार तो सोचना चाहिए था। आदरणीय प्रमोद त्यागी जी जो आपने लिखा है, वो वैसे भी तथ्यों से बहुत परे है। प्रमोद कृष्णम ने जयराम रमेश पर पलटवार करते हुए कई ट्वीट किए। आचार्य प्रमोद ने लिखा- बेरहमी और बर्बरता से कत्ल किए गए कन्हैया के लिए आवाज उठाना राष्ट्र धर्म है प्रभु और राष्ट्र धर्म का निर्वहन करने से किसी को रोकने की चेष्टा राष्ट्र द्रोह कहलाता है। सत्य बोलने वालों को यहां सूली पर चढ़ाया जाता है। प्रमोद कृष्णम ने जयराम रमेश पर निशाना साधते हुए आगे लिखा- ये नास्तिक लोग हैं। ये धर्म का मर्म क्या जानें। तुम दुखी मत हो। ये दंड के नहीं, दया के पात्र हैं। मेरे भाग्य की विडम्बना यही है। भाजपा इसलिए अपमानित करती है कि मैं कांग्रेसी हूं और ये महाशय मेरा अपमान इसलिए कर रहे हैं कि मैं एक हिंदू धर्माचार्य हूं। आचार्य प्रमोद पहले भी गहलोत पर निशाना साधते रहे हैं। इससे पहले प्रमोद कृष्णम सचिन पायलट को सीएम बनाने की पैरवी करते हुए अशोक गहलोत को निशाने पर लेते रहे हैं। इसी सप्ताह उन्होंने पायलट को सीएम बनाने और गहलोत को केंद्र में सक्रिय होने की सलाह दी थी। महाराष्ट्र मामले में आचार्य की बयानबाजी पर जयराम रमेश ने पहले भी कहा था कि वे कांग्रेस के अधिकृत प्रवक्ता नहीं हैं। अब दोनों नेताओं के बीच राजस्थान सीएम को लेकर तकरार बढ़ गया है।

Share This:-

Leave a Comment

Your email address will not be published.